सड़क किनारे पड़ा आज तक,

टूटा हुआ कबीर |

​​

लता-झाड़ियों के झुरमुट में,

झींगुर गाते गीत,

पड़े उपेक्षित जन समाज के,

अनुगम के संगीत,

छुआ नहीं अबतक ललाट को,

चंदन हुआ अबीर |

 

समाधान की यात्राओं में,​​

घुस आए हैं तंत्र,

गठरी लेकर दौड़ रहे हैं,

भूखे-प्यासे मंत्र,

रोज-रोज ठोकर देता है,

पत्थर हुआ फकीर |

 

छाती और पेट से सटकर,

बतियाती है पीठ,

मिटटी का ढेला कंकड़ बन,

बहुत हो गया ढीठ,

कर्ज-गरीबी में जीता है,

उगता हुआ करीर|

 

शहरों में रहती अँगरेजी,

हिंदी के हैं गाँव,

स्वाभाविक है, जलता होगा,

भूभल में ही पाँव,

श्रम का झरना, स्वेद-झील है,

खटता हुआ शरीर |

 

​*जीवन परिचय*

*जन्म स्थान.* सुर्जन छपरा, बैरिया, बलिया (उ.प्र.) 

*जन्म तिथि.* २ जुलाई १९५०

*पिता का नाम.* स्व. राम नाथ सिंह

*माता का नाम.* स्व. सोमवती देवी

*पत्नी का नाम.* श्रीमती आभारानी सिंह

*शिक्षा.* विज्ञान स्नातक इलाहाबाद विश्वविद्यालय, प्रयागराज, शिक्षा स्नातक टाउन डिग्री कालेज, बलिया.

*प्रकाशित कृतियाँ.*

१. एक शून्य, काव्य संग्रह २००५

२. जीवन की हलचल,  काव्य संग्रह २००६

३. गाँववाला घर, काव्य संग्रह २००७

४. समय की फुँकार, काव्य संग्रह २००८

५. माँ जीत ही जायेगी,  काव्य संग्रह २००९

६. बिखरा आसमान, 

गजल संग्रह २०१० 

७. घर-मुँड़ेर की सोनचिरैैया, गीत संग्रह २०११

८. दुमदार दोहे, दुमदार दोहा संग्रह २०१२

९. मेरे गीतों का पाथेय,  गीत संग्रह २०१३

१०. यादों के पंछी, गीत संग्रह २०१४

११. वही हमारा गाँव,  दुमदार दोहे २०१४

१२. कुण्डलियों का गाँव,  कुण्डलिया संग्रह २०१४

१३. सूरज भी क्यों बंधक,  नवगीत संग्रह २०१५

१४. कविता यात्रा- शिवानन्द सिंह 'सहयोगी', संपादक मनु स्वामी एवं परमेन्दर सिंह मुजफ्फरनगर, रचनाओं का समीक्षात्मक अध्ययन २०१७

१५. रोटी का अनुलोम-विलोम, नवगीत संग्रह २०१७

१६. शब्द अपाहिज मौनीबाबा, नवगीत संग्रह २०१७

१७. भौचक शब्द अचंभित भाषा, नवगीत संग्रह २०१८

१८. नदी जो गीत गाती है, नवगीत संग्रह २०१८

१९. लोकोन्मुखी रुद्राक्ष नवगीत संग्रह २०१९

२०. *संज्ञा-सर्वनाम बोली संवाद* नवगीत संग्रह, २०२०, पराग बुक्स, साहिबाबाद(गाजियाबाद)से, प्रकाशनाधीन

२१. *संघर्षों के शिलालेख* नवगीत संग्रह,२०२०, पराग बुक्स, साहिबाबाद(गाजियाबाद)से, प्रकाशनाधीन

२२. बालगीत संग्रह *अक्कड़-बक्कड़* २०२०, परिलेख प्रकाशन, नजीबाबाद से, प्रकाशनाधीन

*संयोजकत्व एवं संपादकत्व*

संचार भारती,

स्मृतियों के वातायन (स्व. डा. कमल सिंह सुप्रसिद्ध भाषाविद् अलीगढ़ के जीवन पर आधारित संस्मरण)

स्मृति, समीक्षा एवं मूल्यांकन (स्व. डा. कमल सिंह,अलीगढ़, जिन्होंने यह सिद्ध किया था कि *'बाबा गोरखनाथ ही हिंदी के प्रथम कवि हैं* की अप्रकाशित कृतियों का संपादन कार्य संपन्न किया)

नये क्षितिज, बिसौली, बदाऊँ के अंक ८ जनवरी-फरवरी-मार्च २०१७ के नवगीत विशेषांक का अतिथि संपादक

*साहित्यिक उपलब्धियाँ*

हिंदी की कम से कम एक दर्जन पत्रिकाओं का आजीवन सदस्य

आकाशवाणी नजीबाबाद से नवगीत का प्रसार भारती के 'काव्य धारा' में प्रसारण

*ई-पत्रिकायें*

अविराम साहित्यिकी, काव्यसागर कवि, शिवम् पूर्णा, अभिव्यक्ति-अनुभूति-हिंदी-संगठन, हिंदी साहित्यपेडिया, साहित्य कुञ्ज, इंदु संचेतना, हस्ताक्षर, हिंदी-भाषा.काम आदि पर नवगीतों का प्रकाशन

फेसबुक पर नियमित लेखन

व्हाट्सअप पर सक्रिय कार्य

*पत्रिकाओं में प्रकाशन*

कुल १२५ से ऊपर पत्रिकाओं में लगभग ३०० सौ से अधिक गीत,दोहे,कुण्डलिया,दुमदार दोहे, कहानी, क्षणिका, बालगीत, मुक्तक, नवगीत आदि का नियमित प्रकाशन.

*सम्मान*

कुल ५५ अबतक। उ.प्र. हिन्दी संस्थान, लखनऊ, द्वारा *नदी जो गीत गाती है* नवगीत संग्रह 

, प्रकाशन वर्ष २०१८ के लिए वर्ष २०१८ का *निराला सम्मान और पुरस्कार* से ३० दिसंबर २०१९ को सम्मानित।

*संप्रति*

भारत संचार निगम लिमिटेड मेरठ से मंडल अभियंता के पद से सेवासंपन्न.

 

शिवानन्द सिंह 'सहयोगी'

'शिवाभा', ए-२३३, गंगानगर

मेरठ-२५० ००१ (उ.प्र.)

दूरभाष..९४१२२१२२५५​

न्यूज़ सोर्स : Literature