सनातन धर्म में सावन का माह बेहद पावन माना जाता है। इस माह में महादेव एवं माता पार्वती की उपासना की जाती है। सावन में महादेव की विधि- विधान से पूजा करने से सभी समस्यां दूर हो जाती हैं। कई लोग सावन के महीने में उपवास रखते हैं। कल सावन का दूसरा सोमवार है। ये दिन शिवभक्तों के लिए बेहद अहम है। पंचांग के मुताबिक, सोमवार के दिन नवमी तिथि पड़ रही है। इस दिन कृतितका नक्षत्र रहेगा। आइए जानते हैं सावन सोमवार की पूजा के नियम...

सोमवार को करें ऐसे पूजा:- सोमवार का दिन महादेव को समर्पित होता है। इस दिन शीघ्र उठकर स्नान करें तथा शिवमंदिर में जाकर महादेव को दूध और जल का अभिषेक करें। इसके पश्चात् माता पार्वती और नंदी को भी गंगाजल और दूध चढ़ाएं। महादेव को भाग, धतूरा, बेलपत्र आदि अर्पित करें। प्रसाद के तौर पर महादेव को घी शक्कर से बनी चीज का भोग लगाएं।

तत्पश्चात शिव चालीसा एवं आरती उतारें। कहा जाता हैं इस दिन पति- पत्नी को साथ उपासना करनी चाहिए। इससे वैवाहिक जीवन में सुखी रहता है। घर में समृद्धि तथा यश रहता है। वहीं, कुंवारी लड़कियां मनचाहे पति की प्राप्ति के लिए उपवास रखती हैं। इसके साथ ही पूरी श्रद्धा ओर भक्ति से महादेव और माँ पार्वती की आराधना करनी चाहिए इससे आपकी सारी मनोकामना जल्द पूर्ण होगी।