पेंशन फंड नियामक और विकास प्राधिकरण (PFRDA) ने अटल पेंशन योजना (APY) और नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) को लेकर डाटा जारी किया है। इसके तहत बीते 1 साल में (30 सितंबर 2021 तक) इन योजनाओं में जुड़ने वालों के संख्या में 24% की बढ़ोतरी हुई है।

इसी के साथ नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) के तहत विभिन्न योजनाओं में सब्सक्राइबर्स की संख्या बढ़कर 4.63 करोड़ तक पहुंच गई है। एक साल पहले यानी 30 सितंबर 2020 तक दोनों योजनाओं से जुड़े सब्सक्राइबर्स की संख्या 3.74 करोड़ थी।

एसेट्स अंडर मैनेजमेंट भी 35% बढ़ा

PFRDA के अनुसार 30 जून, 2021 तक कुल पेंशन एसेट्स अंडर मैनेजमेंट (AUM) 6.67 लाख करोड़ रुपए रही जो सालाना आधार पर 34.84% वृद्धि को बताता है। अटल पेंशन योजना के तहत सब्सक्राइबर्स की संख्या में सालाना आधार पर 32.13% का उछाल आया और यह बढ़कर 3.13 करोड़ हो गई है।

अटल पेंशन योजना में मिलती है 5 हजार रु. की पेंशन

अटल पेंशन योजना के तहत 60 साल का होने पर हर महीने 1000 से लेकर 5000 रुपए की पेंशन मिलती है। इसमें 18 साल से 40 साल तक का व्यक्ति इसमें निवेश कर सकता है। कोई शख्स इस स्कीम को लेता है तो उसे कम से कम 20 साल निवेश करना होगा।

स्कीम में शामिल होने के लिए सेविंग बैंक अकाउंट, आधार और एक्टिव मोबाइल नंबर का होना जरूरी है। 1 से 5 हजार रुपए प्रतिमाह पेंशन लेने के लिए सब्सक्राइबर को 42 से लेकर 210 रुपए प्रतिमाह तक भुगतान करना होगा।

NPS भी है शानदार विकल्प

नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) में 18 से 60 साल तक कोई भी व्यक्ति शामिल हो सकता है। कोई भी व्यक्ति अपने कामकाजी जीवन के दौरान पेंशन खाते में नियमित रूप से योगदान दे सकता है। इकठ्ठा हुए पैसे के एक हिस्से को वह एक बार में निकाल भी सकता है और बची हुई राशि का इस्तेमाल रिटायरमेंट के बाद नियमित आय प्राप्त करने के लिए कर सकता है।