लखनऊ अगले साल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर द‍िल्‍ली में बीजेपी की बड़ी बैठक करीब 6 घंटे तक चली। इस मैराथन बैठक में  चुनाव में प्रचार को लेकर रणनीति तैयार की गई। बैठक में चुनाव प्रचार को लेकर प्रजेंटेशन दिया गया, जिसमें कई प्रचार विज्ञापन दिखाए गए। आगामी विधानसभा चुनावों में राम मंदिर भाजपा के प्रचार अभियान के केंद्र में रहने वाला है। इसके अलावा योगी आदित्यनाथ की हिंदूवादी छवि और मजबूत कानून व्यवस्था पर भी प्रचार में ज़ोर रहेगा। बैठक में संगठन महामंत्री बीएल संतोष, चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान, प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह, यूपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव और प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल शामिल हुए इसके बाद तकरीबन 5 बजे बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा पहुंचे और 2 घंटे तक बैठक में शामिल रहे। उसके बाद वह बैठक से निकल गए लेकिन बैठक उसके बाद भी चलती रही।
  बैठक में उत्तर प्रदेश में पार्टी के कार्यक्रमों और भाजपा के आगामी कैम्पेन को लेकर हुई विस्तार से चर्चा हुई। चुनावी कैम्पेन को लेकर एक प्रजेंटेशन भी दिया गया, जिसमें कई अलग-अलग एंगल से प्रचार के विज्ञापन तैयार किये गए हैं। सूत्रों से मुताबिक, बीजेपी राम मंदिर के मुद्दे को विधानसभा चुनावों में प्रमुखता से उठाएगी इसको लेकर प्लानिंग की गई। किस तरह से पार्टी के प्रचारों में राम मंदिर को स्थान मिले उसको लेकर गहन मंथन किया गया। इसके अलावा कानून व्यवस्था, सरकारी योजनाओं को प्रमुखता से शामिल किया गया है। बैठक में 100 दिन 100 कार्यक्रमों को लेकर रोडमैप तैयार किया गया।